डॉ . माधुरी बागुल

Hindi Poet

इस ब्लॉग पर लिखी गई कोई भी बात पूरी तरह से मेरी अपनी है। यदि वे अन्यत्र प्रकाशित होना चाहते हैं तो अनुमति प्राप्त की जानी चाहिए। पर्चे न लिखें। इसके अलावा, यदि आप अनुमति चाहते हैं, तो लिंक के साथ विशिष्ट पद और पद के शीर्षक के लिए पूछें। बिना अनुमति के लेखन का उपयोग नहीं करना चाहिए।

Personal Details

  • नाम : डॉ . माधुरी बागुल
  • पदवी : बी. ए. एम. एस
  • पसंदीदा :
  • रंग : सफेद, गुलाबी
  • कवि : हरिवंशराय बच्चन
  • बर्थडे : 1983-11-01
  • रूचि : कविता बनाना , पर्यटन करना
  • किताब : No Excuse
  • स्थान : समुद्र तट

About Me

दररोज कविता लिखने के बाद , कविताओ की संख्या बढ़ने लगी | फिर मैंने सोचा कविताएँ अपने तक ही क्यो सीमित रखे , Blog और Website के जरिये प्रकाशित करे | कविता संग्रह बनाना मेरी पहली उपलब्धि है और उन्हे प्रकाशित करना दुसरी उपलब्धि |

मेरी कविताओं में ऊँचे हिंद शब्द का प्रयोग नही है | मैंने साधी और दिल को छू जाने वाली ,जो हर साधारण इंसान को समझ सके ऐसी हिंदी भाषा प्रयोग किई है | इसके कारण मेरी कविताएँ ज्यादा तर लोगों के दिल के करीब पहुंच पाये |

बचपन से ही कविता बनाने की रूचि थी ,लेकिन बीच के बहुत साल अपनी रूचि पर ध्यान नही दिया | कविताएँ बनाई लेकीन ,लिखित स्वरूप में रखी नही | शादी के बारा साल बाद पतीने फिरसे मेरी रूचि की याद दिलाई ,कविता लिखने को कहा | कुछ दिन गुजरने के बाद ,जीवन में निराशा महसूस हो रही थी ,निराशा से बाहर निकलने के लिए मैं फिरसे कविता बनाने लगी |

नए सिरेसे फिर कविता का अध्याय शुरू हुआ | जिस दिन से कविता लिखना शुरू किया मानो जीवन में एक उमंग सी भर गई | तभी मैंने ठान लिया अब ना रुकुंगी रोज नई कविता लिखने का प्रण लिया | उस दिन से मानो मेरी जिंदगी बदल गई ,हरवक्त मुझे कविताएँ सूझने लगी और मजे की बात है की नींद में भी कविता करने लगी |

View More

Poem

From Mar 2021

Madhuri Bagul

अधिग्रहित

      अधिग्रहित


बदल के खुद को क्या मिला
आज तक समझ ना पाए
अरमानों क....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2021

Madhuri Bagul

भरारी

 भरारी

अगं अगं नारी
तू आहेस किती न्यारी...

तुझी सर इतकी भारी
कोणी न....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Sep 2020

Madhuri Bagul

संसार

    संसार

दोन मनांच्या हळूहळू
अलगत तारा जुळता
तारेवरची ....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Sep 2020

Madhuri Bagul

कविता

    कविता

प्रत्येकाच्या मनात
एक कवि दडलेला असतो
कठोर आघात होइस....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Sep 2020

Madhuri Bagul

किनारा

   किनारा

सागराची ओढ मजला
घेऊनी आली किनारी
संवाद साधू लागल्या
म....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Aug 2020

Madhuri Bagul

तुज नमो क्रांतिवीरा

तुज नमो क्रांतिवीरा

देशासाठी लढण्यास
दिली प्राणांची आहुती
सदा ध्या....

SHARE :-     |   |   |   | 

From Aug 2020

Madhuri Bagul

सरजमीं

 सरजमीं

सरजमीं हमारी
आबाद रहे
हौसला हमारा
बुलंद रहे।
सरजमीं की....

SHARE :-     |   |   |   | 

From Aug 2020

Madhuri Bagul

मैत्री

   मैत्री

मैत्री म्हणजे
निखळ नाते
मना मनाचे
सुर जुळते...
अवचित हे<....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Jul 2020

Madhuri Bagul

पंढरीची वारी

         पंढरीची वारी

विठु पंढरीचा | सावळा हा भावला |
मनाच्या गाभा-....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Apr 2020

Madhuri Bagul

वक्त की परीक्षा

वक्त  की  परीक्षा 


हर  घड़ी  का  हिसाब 
रखता  है  वक्त 
....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Apr 2020

Madhuri Bagul

रोशन जिंदगी

रोशन  जिंदगी 


उगते  सूरज  के  साथ 

हर  दिन  नई&n....

SHARE :-     |   |   |   | 

From Apr 2020

Madhuri Bagul

आहट

हम  सब  जिंदगी  में  कितने  सपने  लेकर  जीते है |
सपनो  को पूरा  क....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Apr 2020

Madhuri Bagul

दिल का दर्द

दिल  का  दर्द 

दिल  में  जो  दर्द  है 
बयां  किससे  करे 
छ....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Apr 2020

Madhuri Bagul

हौसला

       हौसला 

रोके  ना  रुके  ए  कदम 
चल  दिए  किस  राह&nb....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

दिल की दास्ता

  दिल  की  दास्ता 

टूटे  जो  ए  दिल 
आवाज  नहीं  होती  है ....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

कोशिश

     कोशिश 

कोशिश  करने  वालों  की 
कभी  हार  नहीं  होती |....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

गुमसुम - दिल

     गुमसुम - दिल 

थमसा  गया  ए  जहा  क्यों 
रुकसा  गया  ह....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

बिरहा

    बिरहा 

बिरहा  में  तेरी 
याद  सताए 
तेरे  मिलन  की 

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

बसेरा

     बसेरा 

साथ  तेरा  साथ  मेरा 
बस  गया  है  एक  बसे....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

साथ

         साथ 

हर  पल  प्यारा  होता  है 
जब  तुम  साथ  ह....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

दिल की दास्ता

दिल  की  दस्ता 

नाराज  है  दिल 
कह  रहा  है  मुझसे 
....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

उलझन

       उलझन 

उलझन  की  उलझन   है 
सुलझन  न  मिल  पाए ....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

बारिश

        बारिश 

रुत  है  सावन  की 
एक  नए  जीवन  की 
खिल....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

दस्तक

      दस्तक 

एक  दस्तक  सी  हुई 
आज  दिल  पे  जो  मेरी&nbs....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

समझदारी

      समझदारी

जिंदगी  में  करने  जैसा 
बहुत  कुछ  है 
नजा....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

नाराज़ दिल

      नाराज़  दिल 

मन  में  एक  दर्द  सा  है 
नजाने  दिल ....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

दोस्ती

            दोस्ती 

फूलों  की  तरह  खिलखिलाती  रहे 
खुशबु....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

रिश्तें

        रिश्तें 

रिश्तों  के  इस  सफ़र  में 
दिलों  की  आज....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

फुर्सत

             फुर्सत 

फुर्सत  से  आज  फुर्सत  मिली  है <....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

हार - जीत

     हार - जीत 

मुश्किलों  से  हार  कर  
ये  दिल  तू  कभी&n....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Mar 2020

Madhuri Bagul

जिंदगी

            जिंदगी 

जिंदगी  के  सफ़र  में 
मुश्किलो....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Feb 2020

Madhuri Bagul

गुमनाम

तम्मनाओं  के  सफर  में  दिल  घुम  रहा 
ना  जाने  किस  कश्....

SHARE :-     |   |   |   | 
From Feb 2020

Madhuri Bagul

लक्ष्य

चार पंक्तिया क्या बना ली गालिब
दिल को एक सुकून सा मिल गया ,
जिंदगी जीने के....

SHARE :-     |   |   |   | 

Testimonial

Say Hello

Success! Your message has been sent to us.
Error! There was an error sending your message.